Sooryavanshi Movie 2021: Story, Cast, Songs, Teaser, Release Date, Budget

इस आर्टिकल में आज आपको बॉलीवूड की Sooryavanshi (सूर्यवंशी) Movie (2021) के बारे में बताया गया है, आप इस आर्टिकल में जानेंगे Story, Cast, Songs, Teaser, Budget और Sooryavanshi Movie के Release Date के बारे में और Sooryavanshi Movie की कहानी है, Sooryavanshi मूवी की नई रिलीज की तारीख क्या है और इस बार हम 5 FAQ भी लाए जो आपके सभी सवालों के जवाब दे देंगे।

Share:

दीपावली क्या है, अर्थ, क्यों और कब मनाया जाता है | माता लक्ष्मी की पूजा क्यों की जाती है

आज इस आर्टिकल में आपको दीपावली क्या है और उसका अर्थ, और दीपावली कब मनाया जाता है और साथ में दीपावली क्यों मनाया जाता है? इस बारे में भी जानेंगे और जैसे कि आप जानते है कि दीपावली मनाने के पीछे कई कहानियाँ/कथाएँ है आज हम इस कहानियाँ को जानेगे और नवम्बर में दीपावली कब है 2021 और दीपावली में माता लक्ष्मी की पूजा का मुहूर्त कब है, ऐसे सभी सवालों के जवाब आपको आज इस आर्टिकल में देखने को मिलेगा। इसीलिए चलिए आज जानते हैं।

Share:

नवरात्रि क्या है और उसका अर्थ | नवरात्रि का त्योहार मनाने के फायदे | नवरात्रि क्यों मनाया जाता है

आज इस आर्टिकल में आपको नवरात्रि क्या है, उसका अर्थ और नवरात्रि क्यों मनाया जाता है इस बारे में बताएँगे और जैसे कि आप जानते है कि नवरात्रि के पीछे एक पारंपरिक कथा है आज हम इस कथा को जानेगे और साथ में विज्ञानक तर्क (जानिए नवरात्रि के पीछे का वैज्ञानिक कारण) भी जानेंगे और नवरात्रि का त्योहार मनाने के फायदे और अक्टूबर में नवरात्रि कब है 2021 में ऐसे सभी सवालों के जवाब आपको आज इस आर्टिकल में देखने को मिलेगा। इसीलिए चलिए आज जानते हैं नवरात्रि  के बारे में।

नवरात्रि क्या है? और उसका अर्थ, नवरात्रि क्यों मनाया जाता है | दो कारण: पारंपरिक कथा और वैज्ञानिक तर्क और जाने नवरात्रि का त्योहार मनाने के फायदे...

नवरात्रि क्या है, नवरात्रि का क्या अर्थ है और नवरात्रि कब मनाई जाती है? 

नवरात्रि हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है। जो एक संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ है नौ रातें। इन नौ रातों में देवी के नौ रूपों की पूजा की जाती है। और दसवें दिन दशहरा या रामनवमी नाम से जाना जाता है। और नवरात्रि साल में दो बार मनाई जाती है जिसकी शुरुआत चैत्र माह और अश्विन माह में मनाई जाती है।

नवरात्रि के नौ रातों में तीन देवियों के नौ स्वरुपों की आराधना होती है, तीन देवियों: महालक्ष्मी, महासरस्वती और महाकाली। 

नवरात्रि क्यों मनाया जाता है? | दो कारण: पारंपरिक कथा और वैज्ञानिक तर्क

पारंपरिक कथा: आदिशक्ति की उत्पत्ति | Origin of Adishakti

कई हजार साल पहले की बात है। एक महिषासुर नाम का राक्षस था उसका आधा शरीर राक्षस का और आधा शरीर भी भैसे का था। महिषासुर बहुत घमंडी और अत्याचारी था। एक बार उसने कई सालों तक ब्रह्मा जी की कठिन तपस्या की थी, एक दिन ब्रह्मा जी प्रसन्न हुए और महिषासुर ने उनसे मांगा कि हे प्रभु मुझे ऐसा वरदान दीजिए कि इन तीनों लोकों में किसी भी देवता या मानव के द्वारा मेरी मृत्यु न हो सके। 

ब्रह्मा जी ने ऐसा ही किया, उसके बाद महिषासुर ने देवताओं पर आक्रमण कर दिया और उनके क्षेत्र पर कब्जा कर लिया तब  सभी देवता महिषासुर के उत्पाद से परेशान हो गए। और सभी मिलकर ब्रह्मा जी, शिव जी और विष्णु जी की शरण में गए। सभी देवताओं ने मिलकर इस समस्या उपाय ढूंढ़ने का प्रयास किया। इसी प्रकार आदिशक्ति मां दुर्गा का निर्माण किया।

सभी देवताओं ने मां दुर्गा को सभी प्रकार के अस्त्र-शस्त्र प्रदान किया। सभी प्रकार के शास्त्रों को लेकर महिषासुर की नगरी की ओर चल पड़े। जब महिषासुर को सूचना मिली इस बारे में तब उसने मां दुर्गा से विवह की प्रस्तावना रखी तब मां दुर्गा ने कहा कि हे असुरराज मुझसे युद्ध करो यदि तुम मुझसे युद्ध जीत गए तो मैं तुमसे अवश्य विवह करने को तैयार हूं। 

महिषासुर ने देवी से कहा कि मै युद्ध करने को तैयार हूं फिर महिषासुर और मां दुर्गा के बीच भयंकर युद्ध हुआ यह युद्ध 10 दिनों तक चला। अंत में मां दुर्गा ने महिषासुर का वध कर दिया उसके बाद सभी देवता अति प्रसन्न हुए महिषासुर के वध से और मां दुर्गा पर पुष्प बर्षा करने लगे, उनकी जय-जयकार करने लगे। तब से हिंदू ने नवरात्रि का त्योहार मनाना शुरू किया। यह है पारंपरिक कथा... 

यह भी पढ़े:

» Bhagavad Gita के Chapter Summary 1 to 18 (भगवद् गीता का पूरा सार)
» Radhe Shyam 2022 में एक आने वाली Movie जानें Story, Cast, Teaser, Budget, Release date के बारे में 
» क्रिप्टो करेंसी क्या है और कैसे इसी यूज किया जाता है जानें 
» सरकारी नौकरी और प्राइवेट नौकरी में क्या अंतर है जानें
» Business का अर्थ है | बिजनेस की परिभाषा क्या है | बिज़नेस को शुरू करने के लिए 6 तरीके के बारे जानें 

वैज्ञानिक तर्क: नवरात्रि का वैज्ञानिक आधार | Science behind Navratri

नवरात्रि मनाने के पीछे का वैज्ञानिक कारण आइए। आज हम आपको नवरात्रि मनाने के पीछे का वैज्ञानिक कारण बताते हैं। नवरात्रि का त्यौहार प्रत्येक साल बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस त्यौहार को वैदिक परंपरा से पूजा करते हैं और हजारों लोग माता दुर्गा के दर्शनों के लिए जाते हैं। 

इस समय में किया गया हवन पूजा और यह बहुत ही लाभ पहुंचाता है। हवन और यज्ञ करने से शरीर और मन दोनों स्वस्थ रहते हैं। इसी कारण से नवरात्रि को वैज्ञानिक दृष्टिकोण से अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। नवरात्रि का त्योहार साल में दो बार मनाया जाता है। चैत मास के महीने में जिसे चैत्र नवरात्रि कहां जाता है और दूसरा शारदीय नवरात्रि जो कार्तिक मास में मनाया जाता है। 

चैत नवरात्रि और शारदीय नवरात्रि उत्तर भारत में मुख्य रूप से मनाया जाता है। नवरात्रि का समय अत्यंत ही महत्वपूर्ण और शुभ माना जाता है। इस समय में सभी प्रकार के शुभ कार्यों का आरंभ होता है। यही वह समय होता है जब मौसम अपनी करवट बदलता है, यानी मौसम में बदलाव आता है। नवरात्रि का त्यौहार प्रत्येक जीव के लिए कल्याण, शांति और समृद्धि के लिए होता है। 

नवरात्रि का समय वह समय होता है। जब ऋतुऐं बदलती है। शास्त्रों के अनुसार इस समय नकारात्मक शक्तियों को नष्ट करने के लिए हवन और पूजा किया जाता है। नवरात्रि पर हवन पूजा करने से स्वास्थ्य ठीक रहता है। यही कारण है कि साल में आने वाले सभी नवरात्रों के संधिकाल में होते हैं। यही वह समय होता है। जब मौसम बदलता है जिससे शरीर और मानसिकता में कमी आती है। इसलिए शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए व्रत और पूजा की जाती है।  

नवरात्रि का त्योहार मनाने के फायदे Benefits of celebrating the festival of Navratri

नवरात्रि में शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए व्रत और पूजा की जाती है। नवरात्रि को स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से अत्यधिक महत्व दिया जाता है। इस समय व्रत करने से ना केवल मानसिक शक्ति प्राप्त होती है बल्कि शरीर और विचारों की विशुद्धि होती है।

जिस प्रकार हम नहा कर अपने शरीर को साफ रखते हैं उसी प्रकार नवरात्रि के इस पावन अवसर पर शरीर के साथ-साथ विचारों की शुद्धि की जाती है जो अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। 

जैसे मौसम बदलता है। उस समय शरीर को रोग से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता को पढ़ाना पड़ता है। नवरात्रि व्रत करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। इसलिए नवरात्रि को विशेष माना जाता है।

अक्टूबर में नवरात्रि कब है 2021 में? When is Navratri in October 2021?

इस साल शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 07 अक्टूबर, गुरुवार से होगा और 15 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाऐगा।    

Share:

क्रिप्टो करेंसी क्या है | क्रिप्टो करेंसी में कैसे इन्वेस्ट करें?

आज कुछ नया...इस आर्टिकल में आपको क्रिप्टो करेंसी (Cryptocurrency) के बारे में बताया गया है जैसे: क्रिप्टो करेंसी क्या है और कैसे इसी यूज किया जाता है, क्या क्रिप्टो करेंसी पर किसी बैंक या गवर्मेंट का कंट्रोल होता है, इसकी फायदें क्या-क्या होते हैं, क्रिप्टो करेंसी को कैसे ख़रीदे या इन्वेस्ट करें और क्रिप्टो करेंसी का उपयोग करते समय किन-किन बातो का ध्यान रखना होता है ऐसे सभी सवालों के जवाब आपको इस आर्टिकल में मिल जाएंगा। इसीलिए चलिए आज जानते हैं क्रिप्टो करेंसी के बारे में।

cryptocurrency-kya-hai-hindi-how-to-buy-or-invest-cryptocurrency

क्रिप्टो करेंसी किसे कहते है और यह क्या है? - What is Cryptocurrency?

Cryptocurrency: इस तेजी से आगे बढ़ती डिजिटल दुनिया में करेंसी ने भी डिजिटल रूप ले लिया है और इस डिजिटल करेंसी को ही क्रिप्टो करेंसी कहा जाता है जैसे कि बिटकॉइन जिसका नाम आपने बहुत बार सुना है। 

क्रिप्टो करेंसी वर्चुअल करेंसी (Virtual currency) होती है, और 2009 में वर्चुअल करेंसी को पेश किया गया था और पहली क्रिप्टो करेंसी लोकप्रिय बिटकॉइन ही थी। 

क्रिप्टो करेंसी कोई असली सिक्के या नोट जैसी नहीं होती है। यानी इस करेंसी को हम लोगों की तरह हाथ में तो नहीं ले सकती। अपनी जेब में भी नहीं रख सकते, लेकिन यह हमारी डिजिटल वॉलेट में सेव रहती है। इसीलिए आप इसे ऑनलाइन करेंसी भी कह सकते हैं क्योंकि केवल यह करेंसी ऑनलाइन मौजूद है। बिटकॉइन से होने वाला पेमेंट कंप्यूटर के जरिए होता है।

क्रिप्टो करेंसी का अर्थ - Cryptocurrency meaning in Hindi

क्रिप्टो करेंसी कोई असली सिक्के या नोट जैसी नहीं होती है। यानी इस करेंसी को हम लोगों की तरह हाथ में तो नहीं ले सकती। अपनी जेब में भी नहीं रख सकते, लेकिन यह हमारी डिजिटल वॉलेट में सेव रहती है। इसीलिए आप इसे ऑनलाइन करेंसी भी कह सकते हैं क्योंकि केवल यह करेंसी ऑनलाइन मौजूद है। बिटकॉइन से होने वाला पेमेंट कंप्यूटर के जरिए होता है।

क्या क्रिप्टो करेंसी पर किसी बैंक या गवर्मेंट का कंट्रोल होता है? - Is there a Bank or Government control on the Cryptocurrency?

हमारे इंडियन रुपीस और इसी तरह यूरोप डॉलर जैसी करेंसी इस पर गवर्मेंट का पूरा कंट्रोल होता है। लेकिन बिटकॉइन जैसी क्रिप्टो करेंसी पर ऐसा कोई कंट्रोल नहीं होता है। 

इस वर्चुअल करेंसी पर गवर्मेंट अथॉरिटी जैसे कि सेंट्रल बैंक किसी देश और एजेंसी का कोई कंट्रोल नहीं होता है। यानी बिटकॉइन पुराने ज़माने के बैंकिंग सिस्टम को फॉलो नहीं करता है बल्कि कंप्यूटर वॉलेट से दूसरे वॉलेट तक ट्रांसफर होता रहता है। 

ऐसा नहीं है कि केवल बिटकॉइन ही ऐसी एक क्रिप्टो करेंसी है बल्कि ऐसी 5000+से भी ज्यादा अलग-अलग क्रिप्टो करेंसी मौजूद है और कुछ पॉपुलर क्रिप्टो करेंसी है जैसे: 

  • Ethereum
  • Ripple
  • Litecoin
  • Tether
  • Libra

इन क्रिप्टो करेंसी को भी बिटकॉइन की ही तरह आसानी से खरीद और भेज सकते हैं।

लोकप्रिय बिटकॉइन की लोकप्रियता कितनी है जाने? - How much is the Popularity of Popular Bitcoin?

सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन ही है और यह कितनी लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी है। इसका अंदाजा आपको इस बात से लग सकते है कि अब दुनिया की बहुत सी कंपनी बिटकॉइन से पेमेंट लने लगी है और आगे इन कंपनी के नंबर तेजी से बढ़ेंगे ही।

बिटकॉइन का यूज करके शॉपिंग, ट्रेडिंग, फूड डिलीवरी और ट्रैवलिंग सब कुछ किया जा सकता है।  

भारत में क्रिप्टो करेंसी ग़ैर-क़ानूनी क्यों है? - Why is Cryptocurrency Unlawful/Illegal in India?

भारत में धीरे-धीरे ही सही, लेकिन बिटकॉइन पेमेंट का लोकप्रिय फॉर्म बनता ही जा रहा है। भारत में क्रिप्टो करेंसी की इस धीमी-स्पीड का कारण इसका ग़ैर-क़ानूनी होना था क्योंकि क्रिप्टो करेंसी को RBI द्वारा प्रतिबंध किया गया था, लेकिन अब मार्च 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने इस प्रतिबंध को हटा दिया है। 

यानी आप भारत में क्रिप्टो करेंसी का उपयोग करना कानूनी हो गया है और इसीलिए भारत में भी क्रिप्टो करेंसी यूजर्स की संख्या बढ़ने लगी है।

भारत में बाकी देशों की तरह बिटकॉइन जैसी क्रिप्टो करेंसी का तेजी से लोकप्रिय नहीं होने का दूसरा महत्वपूर्ण कारण हमारा यह विचार है कि इन्वेस्टमेंट करना हो तो FD, mutual fund, शेयर और गोल्ड में ही करना चाहिए।

यह भी पढ़े:

» Bhagavad Gita के Chapter Summary 1 to 18 (भगवद् गीता का पूरा सार)
» Radhe Shyam 2022 में एक आने वाली Movie जानें Story, Cast, Teaser, Budget, Release date के बारे में 
» Battleground Mobile India क्या है, BGMI किसने बनाया और जानें 
» Story of Job vs Business Hindi:- यह वह कहानी है जो तुम्हारा नजरिया बदल सकती है।
» Business का अर्थ है | बिजनेस की परिभाषा क्या है | बिज़नेस को शुरू करने के लिए 6 तरीके के बारे जानें 

क्रिप्टो करेंसी में इन्वेस्ट करने  के फायदे क्या है? - What is the Advantages to Invest in Cryptocurrency?

क्रिप्टो करेंसी इन्वेस्ट करने की अपनी अलग ही फायदे होते हैं जैसे कि इसमें आप आसानी से और फटाफट ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। इससे इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन फुर्ती से पूरा किया जा सकता है। 

आपको क्रिप्टो करेंसी में ना के बराबर ट्रांजैक्शन की फीस देनी होती है। इसमें कोई मिडिलमैन भी नहीं होता है और यह ट्रांजैक्शन ज्यादा सुरक्षित और आत्मविश्वासी होते हैं। अब बताइए है कि बिटकॉइन एक फायदे का इन्वेस्टमेंट है या नहीं।

क्रिप्टो करेंसी का उपयोग और किस देश में क्रिप्टो करेंसी यूजर्स की संख्या सबसे ज्यादा है? - Use of Cryptocurrency and in which country is the highest number of Cryptocurrency users?

Facebook, PayPal, Amazon और Walmart जैसी बड़ी-बड़ी कंपनी क्रिप्टो करेंसी से जुड़ी हुई है और तो और Elon Musk जो आज दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति है। Jack Dorsey, Mike Tyson और kanye west जैसी प्रसिद्ध व्यक्ति भी क्रिप्टो करेंसी का उपयोग करती है। 

USA China, Japan, Spain and Romania जैसे देशों में तो क्रिप्टो करेंसी यूजर्स की संख्या सबसे ज्यादा है। 

क्रिप्टो करेंसी को कैसे ख़रीदे या इन्वेस्ट करें? - How to buy or invest Cryptocurrency?

अब इतना जान लेने के बाद हो सकता है कि आप भी बिटकॉइन में इन्वेस्ट करने के बारे में सोच रहे हो तो आपको बता दें कि क्रिप्टो करेंसी को यूज करना भी बहुत ही आसान होता है। निम्नलिखित अप्प का उपयोग कर आप क्रिप्टो करेंसी में  इन्वेस्ट कर सकते है:

भारत में सबसे लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज - Most popular cryptocurrency exchanges in India

  • WazirX
  • CoinDCX
  • Zebpay
  • CoinSwitch Kuber
  • UnoCoin

आप निम्नलिखित क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज के एप्लीकेशन का यूज करके आप एक क्लिक में बिटकॉइन में इन्वेस्ट कर सकते हैं। इसे खरीद और बेच सकते हैं। यह आपको उतना ही आसान लगेगा, जितना अमेजॉन से आप अपनी पसंदीदा प्रोडक्ट को खरीदते हैं। 

अगर बिटकॉइन महंगा है, तो हम कैसे निवेश करेंगे? - If bitcoin is expensive, how will we invest?

एक बिटकॉइन का प्राइस अभी लगभग 3200000 रुपए के लगातार तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन इस क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज का अप्प यूज करके आप सिर्फ ₹100 से अपना इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हैं और इसमें आपको कोई ट्रांजैक्शन फीस भी नहीं दे रही होगी। 

यहां पर आपको यह भी पता होना चाहिए कि बिटकॉइन का प्राइस तेजी से बढ़ता रहता है। उसकी डिमांड के अकॉर्डिंग इसके प्राइस में उतार चढ़ाव होते रहते हैं।

क्रिप्टो करेंसी का उपयोग करते समय किन-किन बातो का ध्यान रखना होता है? - What are the things to keep in mind while using cryptocurrency?

क्रिप्टो करेंसी का यूज़ करते टाइम आपको यह याद रखना होगा कि इसमें आपको प्रॉफिट तो बहुत मिल सकता है, लेकिन इसमें रिस्क भी हाई होता है। इसलिए कोई भी क्रिप्टो करेंसी खरीदने से पहले उस पर थोड़ी जानकारी जरूर जुटा ले ताकि आपको पता चल सके कि उस क्रिप्टो करेंसी का प्रदर्शन पिछले हफ्ते कैसा रहा। इससे होने वाले प्रॉफिट और उसमें होने वाले उतार-चढ़ाव का अंदाजा हो जाएगा ताकि आपके इन्वेस्टमेंट में कम रिस्क और ज्यादा प्रॉफिट हो सके। 

भविष्य में क्रिप्टो करेंसी भारत में कितनी तेजी से लोकप्रिय होगा और इससे हम क्या क्या खरीद पाएंगे। यह तो फ्यूचर में ही पता चल पाएगा। लेकिन अब आप समझदारी से इसका यूज करना चाहे तो प्रॉफिट पा सकते हैं। 

ENDING LINE - तो आपको इस आर्टिकल के जरिए क्रिप्टो करेंसी के बारे में बहुत कुछ पता चल गया होगा और यह आर्टिकल आपके नॉलेज को थोड़ा अपडेट कर पाया होगा और आपके लिए यह आर्टिकल उपयोगी रहा होगा। 

Share:

भगवद् गीता का पूरा सार | Bhagwad Geeta Saar Hindi | Bhagavad Gita Life Lessons

इस आर्टिकल में आपको भगवद् गीता का पूरा सार (Bhagwad Geeta Saar Hindi) के बारे में बताया गया है, आप इस आर्टिकल में आज जाननें के साथ सीखेंगे भी क्या?जीवन के सबक सीखेंगे जैसे: क्रोध पर नियंत्रण, दृष्टिकोण बदलें, स्वयं पर विश्वास रखें, स्वयं का आकलन और काम को खुश रहकर करें यह सब आप जाननें के साथ सीखेंगे भी है।

भगवत गीता में इतनी सारी अच्छी-अच्छी बातें कही गई है कि हम सभी उसको हर रोज सुनना चाहेंगे तो इसीलिए हम लेकर आए हैं। हमारे आर्टिकल में हर एक अध्याय का मूल मतलब भगवत गीता के 1 अध्याय का सार जो आप जान सकते हैं। 

तो आज आपको इस Bhagavad Gita के Chapter Summary 1 to 18 (भगवद् गीता का पूरा सार) आर्टिकल में मिलेगा। भगवद् गीता का यह सार मात्र 5 मिनट का है तो पढ़े और सीखें और भगवद् गीता का यह सार हिंदी और इंग्लिश दोनों में है।


Bhagwad-Geeta-Saar-Hindi

Bhagavad Gita के Chapter Summary 1 to 18 | भगवद् गीता का पूरा सार

पहले अध्याय में कहा गया है: “गलत सोच या विचार ही आपके जीवन में सभी समस्याओं को आमंत्रित करते हैं। 

❝Wrong thoughts invite all the problems in your life❞.

☛ दूसरे अध्याय में कहा गया है: “सही ज्ञान हमारे प्रत्येक मुद्दे या समस्याओं का अंतिम समाधान है”।

❝Right knowledge is the ultimate solution to each of our issues or problems ❞.

☛ तीसरे अध्याय में कहा गया है: “नि:स्वार्थता ही प्रगति और समृद्धि का एकमात्र तरीका है”।

❝Selflessness is the best way to Advance and Prosperity ❞.

☛ चौथे अध्याय में कहा गया है: “हर कार्य प्रार्थना का कार्य हो सकता है।”।

❝Every act can be an act of prayer❞. 

☛ पाँचवे अध्याय में कहा गया है: “अनंतता के आनंद में व्यक्तिवाद और आनंद का अहंकार त्यागे”।

❝Renounce the Ego of Individuality and Rejoice in the Bliss of Infinity❞. 

☛ छठे अध्याय में कहा गया है: “दैनिक उच्चतर चेतना से जुड़े”। 

❝Daily connect to the Higher Consciousness❞. 

☛ सातवें अध्याय में कहा गया है: “जो आप सीखते हैं उसे ही जीतते हैं”।

❝You live what you learn❞. 

यह भी पढ़े:

» जीवन के लिए सर्वश्रेष्ठ Hindi/English उद्धरण/Quotes को देखे

» Radhe Shyam 2022 में एक आने वाली Movie जानें Story, Cast, Teaser, Budget, Release date के बारे में 

» Battleground Mobile India क्या है, BGMI किसने बनाया और जानें 

» नई सर्वश्रेष्ठ 30 प्रेरक उद्धरण 2021 | उत्साह और नई जोश से भरे Quotes

» सामंथा अक्किनेनी की जीवनी, मांथा अक्कीनेनी के स्ट्रगल की कहानी, Samantha Akkineni Height, Weight, Age, Husband, Family, Biography & More

☛ आठवें अध्याय में कहा गया है: “अपने आप से कभी हार ना माने”। 

❝Never give up on yourself❞. 

☛ नौवें अध्याय में कहा गया है: “अपने आशीर्वाद को महत्व दे”। 

❝Give importance to your blessings❞. 

☛ दसवां अध्याय कहता है: “चारों तरफ देवत्व को देखें”। 

❝See the divinity all around❞. 

☛ ग्यारहवां अध्याय कहता है: “सत्य को देखने के लिए पर्याप्त समर्पण करे जैसा की यह सत्य है”। 

❝Have enough Surrender to see the Truth as it is❞.

☛ बारहवां अध्याय कहता है: “अपने मस्तिष्क का विस्तार करे”। 

❝Absorb your mind in the Higher❞.

☛ तेरहवां अध्याय कहता है: “माया खुद को अलग करो और परमात्मा से जुड़ो”। 

❝Detach from Maya and attach to Divine❞.

☛ चौदहवां अध्याय कहता है: “एक ऐसी जीवन शैली जिये जो आपकी दृष्टि से में कहती हो”।

❝Live a lifestyle that matches your Vision❞.

☛ पन्द्रहवां अध्याय कहता है: “दिव्यता को प्राथमिकता दे”।

❝Give priority to the divinity❞.

☛ सोलहवां अध्याय कहता है: “अच्छा होना अपने आप में एक इनाम है”।

❝Being Good is a Reward in itself❞.

☛ सत्रहवां अध्याय कहता है: “सुखों को त्याग कर जो सही है उससे चुनना शक्ति का प्रतीक मन जाता है”।

❝To Choose what is right by giving up Pleasures is Considered a symbol of Strength❞.

☛ अठारवां अध्याय कहता है: “जो है उसे जानने दीजिए चलिए भगवन के साथ मिलने के लिए आगे चलते है”।

❝let go, let's move to union with god❞.

Share:

Radhe Shyam Movie 2022: Story, Cast, Music, Teaser, Budget, Release date

 ~~~Radhe Shyam (राधे श्याम) Movie 2022 Wikipedia in Hindi~~~

इस आर्टिकल में आपको Radhe Shyam Movie 2022 के बारे में बताया गया है, आप इस आर्टिकल में जानेंगे Story, Cast, Teaser, Budget और Radhe Shyam Movie की Release date के बारे में और Radhe Shyam Movie की कहानी है, Radhe Shyam Movie का Budget, यह सभी सवालों के जवाब आज आपको इस आर्टिकल में मिलेगा।

Radhe Shyam Movie 2022: Story, Cast, Music, Teaser, Budget, Release date

Radhe Shyam (राधे श्याम) Movie Wikipedia (2022)

Radhe Shyam (राधे श्याम) Movie: 2022 में एक आने वाली भारतीय तेलुगु रोमांटिक ड्रामा फिल्म है, जिसे राधा कृष्ण कुमार द्वारा लिखित और निर्देशित किया गया है, राधे श्याम में आपको प्रभास और पूजा हेगड़े प्रमुख क़िरदार में हैं।  

Share:

Popular Posts